Raat Kali Ek Khwab Mein Aayi Lyrics

Raat Kali Ek Khwab Mein Aayi Lyrics. The 1971 Bollywood movies Buddha Mil Gaya songs Raat Kali Ek Khwab Mein Aayi lyrics were written by Majrooh Sultanpuri. This old Hindi song is originally sung by Kishore Kumar Ganguly while music was given by Rahul Dev Burman. Hindi film songs Raat Kali Ek Khwab Mein Aayi features Navin Nischol and Archana.

Read the lyrics of Raat Kali Ek Khwab Mein Aayi by Kishore Kumar and download the lyrics into a pdf file in Hindi and English language.

raat kali ek khwaab mein aayi lyrics

Song Lyrics Summary

Song Title: Raat Kali Ek Khwaab Mein Aayi (Lyrics)
Singer: Kishore Kumar
Features: Navin Nischol and Archana
Lyrics: Majrooh Sultanpuri
Director:
 Hrishikesh Mukherjee

Raat Kali Ek Khwab Mein Aayi Lyrics In English

rat kali ek khwab me aayi
or gale ka har hui
rat kali ek khwab me aayi
or gale ka har hui
subah ko jab hum nind se jage
aankh unhi se char hui
rat kali ek khwab me aayi
or gale ka har hui

chahe kaho ise meri mohabbat
chahe hasi me uda do
ye kya hua mujhe mujhko khabar nahi
ho sake tumhi bata do
chahe kaho ise meri mohabbat
chahe hasi me uda do
ye kya hua mujhe mujhko khabar nahi
ho sake tumhi bata do
tumne kadam to rahka jami par
sine me kyu jhankar hui
rat kali ek khwab me aayi
or gale ka har hui

aankho me kajal or lato me kali ghata ka basera
sawli surat mohni murat
sawan rut ka sawera
jab se ye mukhda dil me khila hai
dunia meri guljar hui
rat kali ek khwab me aayi
or gale ka har hui

yu to hasino ke mahjabino ke
hote hai roz najare
par unhe dekh ke dekha hai jab tumhe
tum lage or bhi pyare
yu to hasino ke mahjabino ke
hote hai roz najare
par unhe dekh ke dekha hai jab tumhe
tum lage or bhi pyare
bahi me le lu aisi tamnna
ek nahi kai bar hui
rat kali ek khwab me aayi
or gale ka har hui
subah ko jab hum nind se jage
aankh unhi se char hui
rat kali ek khwab me aayi
or gale ka har hui

Raat Kali Ek Khwab Mein Aayi Lyrics In Hindi

रात कली एक ख़ाब में आई,
और गले का हार हुई
रात कली एक ख़ाब में आई,
और गले का हार हुई
सुबह को जब हम नींद से
जागे, आँख उन्हीं से चार
हुई
रात कली एक ख़ाब में आई,
और गले का हार हुई

चाहे कहो इसे मेरी
मोहब्बत, चाहे हँसी में
उड़ा दो
ये क्या हुआ मुझे? मुझ को
ख़बर नहीं, हो सके
तुम्हीं बता दो
चाहे कहो इसे मेरी
मोहब्बत, चाहे हँसी में
उड़ा दो
ये क्या हुआ मुझे? मुझ को
ख़बर नहीं, हो सके
तुम्हीं बता दो

तुम ने क़दम तो रखा ज़मीं
पर, सीने में क्यूँ
झनकार हुई?
रात कली एक ख़ाब में आई,
और गले का हार हुई

आँखों में काजल और लटों
में काली घटा का बसेरा
साँवली सूरत, मोहनी
मूरत, सावन रुत का सवेरा
आँखों में काजल और लटों
में काली घटा का बसेरा
साँवली सूरत, मोहनी
मूरत, सावन रुत का सवेरा

जब से ये मुखड़ा दिल में
खिला है, दुनिया मेरी
गुलज़ार हुई
रात कली एक ख़ाब में आई,
और गले का हार हुई

यूँ तो हसीनों के,
माहजबीनों के होते हैं
रोज़ नज़ारे
पर उन्हें देख के देखा
है जब तुम्हें, तुम लगे
और भी प्यारे
यूँ तो हसीनों के,
माहजबीनों के होते हैं
रोज़ नज़ारे
पर उन्हें देख के देखा
है जब तुम्हें, तुम लगे
और भी प्यारे

बाँहों में ले लूँ ऐसी
तमन्ना एक नहीं, कई बार
हुई
रात कली एक ख़ाब में आई,
और गले का हार हुई
सुबह को जब हम नींद से
जागे, आँख उन्हीं से चार
हुई
रात कली एक ख़ाब में आई,
और गले का हार हुई

Related Posts: